March 1, 2021

Makar Sankranti 2021: कुंभ वर्ष का पहला पर्व स्नान आज, पांच लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं के हरिद्वार आने की संभावना


कुंभ वर्ष में पहला स्नान पर्व का उद्घोष करते पंडित
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

कुंभ वर्ष में बृहस्पतिवार को मकर संक्रांति का पहला पर्व स्नान है। इस दिन गंगा में आस्था की डुबकी लगाने के लिए उत्तर भारत से पांच लाख से अधिक श्रद्धालुओं के हरिद्वार पहुंचने की संभावना है। प्रशासन इसे कुंभ के ट्रायल के रूप में ले रहा है। लिहाजा भीड़ के मद्देनजर मेला पुलिस और प्रशासन ने व्यवस्थाएं चाक-चौबंद कर दी हैं।

हरकी पैड़ी समेत सभी घाटों पर मेला और जिला पुलिस के अलावा केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियां मुस्तैद रहेंगी। शिवमूर्ति चौराहे से भीमगोड़ा तक बाहरी वाहनों के लिए जीरो जोन रहेगा। स्थानीय लोग और व्यापारी निजी व आवश्यक कार्यों के लिए दोपहिया वाहनों से आवाजाही कर सकेंगे।

यह भी पढ़ें: Makar Sankranti 2021: ये है गंगा स्नान का शुभ मुहूर्त, इस समय दान करना होगा बेहद लाभकारी

मकर संक्रांति को सूर्य देव मकर राशि में प्रवेश करेंगे। शास्त्रों की मान्यता के अनुसार, मकर संक्रांति पर गंगा स्नान का बड़ा महत्व है। हर साल उत्तर भारत से लाखों श्रद्धालु हरिद्वार पहुंचते हैं। हालांकि, इस बार कोरोना संक्रमण के कारण भीड़ कुछ कम जुटने की संभावना जताई जा रही है। फिर भी पांच लाख से अधिक श्रद्धालुओं के पहुंचने की संभावनाओं को देखते हुए व्यवस्थाएं की गई हैं।

हरकी पैड़ी क्षेत्र के सभी घाटों को चमका दिया गया है। महिला श्रद्धालुओं के लिए हरकी पैड़ी क्षेत्र के प्लेटफार्म पर रेडिमेड चेजिंग रूम लगाए गए हैं। श्रद्धालुओं को गंगा आरती दर्शन के लिए चार डिस्प्ले भी लगाए गए हैं। घाटों पर एटीएस, डॉग स्क्वायड, एसटीएफ और पैरमिलिट्री के जवानों की कड़ी सुरक्षा निगरानी रहेगी।

गुरुवार को होने वाले मकर संक्रांति स्नान के लिए आईजी कुंभ संजय गुंज्याल ने अधिकारियों और पुलिसकर्मियों को जरूरी दिशा निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस श्रद्धालुओं के साथ मित्र वाला व्यवहार करें और स्नान शुरू होने से समाप्त होने तक सतर्कता बरती जाए। 

भल्ला इंटर कॉलेज स्टेडियम में मकर संक्रांति स्नान पर्व के लिए आयोजित पुलिस ब्रीफिंग में पुलिस महानिरीक्षक कुंभ मेला संजय गुंज्याल ने कहा कोई भी अधिकारी और पुलिस कर्मी ड्यूटी के प्रति लापरवाही न बरते। उन्होंने कहा कि किसी को भी अति आत्मविश्वास में नहीं रहना चाहिए।

कोई भी हादसा कहीं भी हो सकता है। उन्होंने कहा कि ड्यूटी के दौरान खुद भी कोरोना से बचाव के सभी उपाय अपनाएं और आने वाले श्रद्धालुओं से भी कोविड संबंधित नियमों का पालन करवाएं। कुंभ मेला पुलिस अधीक्षक जन्मेजय प्रभाकर खंडूरी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सेंथिल अबूदई कृष्ण राज एस ने भी पुलिस कर्मियों को दिशा निर्देश जारी किए। इस दौरान पुलिस यातायात अधीक्षक कुंभ मेला आयुष अग्रवाल ने पुलिसकर्मियों को ट्रैफिक प्लान की जानकारी दी। 

पुलिस संचार व्यवस्था की दी गई जानकारी
पुलिस अधीक्षक संचार कुंभ मेला 2021 मुकेश ठाकुर ने पुलिस बल को मेले के दौरान बनाई गई पुलिस संचार व्यवस्था की जानकारी दी। इसके साथ ही जीआरपी सहित बनाए गए चार संचार ग्रिडों के माध्यम से व्यवधान रहित बातचीत करने की  प्रक्रिया को बताया। 

मकर संक्रांति के स्नान को देखते हुए पुलिस ने यातायात व्यवस्था के लिए कमर कस ली है। यात्रा मार्ग पर पुलिस के जवानों की तैनाती कर दी गई है। साथ ही रुड़की जाने वाले भारी वाहनों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। वहीं, नगरपालिका परिषद ने बुधवार को हाईवे और लंढौरा रोड पर साफ-सफाई कराई। 

आज गंगा स्नान के लिए हरिद्वार आने वाले श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की असुविधा न हो, इसे लेकर नगरपालिका परिषद मंगलौर ने बुधवार को दिनभर हाईवे और यात्रा मार्गों की सफाई कराई। सफाई निरीक्षक आदेश कुमार ने बताया कि महाकुंभ शुरू होने वाला है।

ऐसे में नगरपालिका परिषद ने यात्रा मार्गों को साफ करा दिया है। वहीं, पुलिस ने भी यात्रा मार्गों पर चौकसी बढ़ा दी है। यातायात को सुचारु रखने के लिए पुलिस और यातायात पुलिस के जवानों को तैनात कर दिया है। मंगलौर से रुड़की की ओर जाने वाले भारी वाहनों पर प्रतिबंधित लगा दिया गया है।

एएसपी हिमांशु वर्मा ने बताया कि बृहस्पतिवार को मकर संक्रांति के स्नान के लिए पुलिस हर चुनौती से निपटने के लिए तैयार है। यातायात का पूरा प्लान तैयार किया गया है। महाकुंभ में श्रद्धालुओं को कोई असुविधा नहीं होने दी जाएगी। चौकी प्रभारी शहजाद अली ने बताया कि पुलिस पिकेट मंगलौर बस अड्डा, लंढौरा रोड, गंगनहर पुल और झबरेड़ा तिराहे पर रहेगी। 

सार

  • लाखों श्रद्धालुओं के हरिद्वार आने की उम्मीद, कुंभ के ट्रायल के रूप में होगा स्नान, मेला और जिला पुलिस के अलावा केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियां मुस्तैद रहेंगी

विस्तार

कुंभ वर्ष में बृहस्पतिवार को मकर संक्रांति का पहला पर्व स्नान है। इस दिन गंगा में आस्था की डुबकी लगाने के लिए उत्तर भारत से पांच लाख से अधिक श्रद्धालुओं के हरिद्वार पहुंचने की संभावना है। प्रशासन इसे कुंभ के ट्रायल के रूप में ले रहा है। लिहाजा भीड़ के मद्देनजर मेला पुलिस और प्रशासन ने व्यवस्थाएं चाक-चौबंद कर दी हैं।

हरकी पैड़ी समेत सभी घाटों पर मेला और जिला पुलिस के अलावा केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियां मुस्तैद रहेंगी। शिवमूर्ति चौराहे से भीमगोड़ा तक बाहरी वाहनों के लिए जीरो जोन रहेगा। स्थानीय लोग और व्यापारी निजी व आवश्यक कार्यों के लिए दोपहिया वाहनों से आवाजाही कर सकेंगे।

यह भी पढ़ें: Makar Sankranti 2021: ये है गंगा स्नान का शुभ मुहूर्त, इस समय दान करना होगा बेहद लाभकारी

मकर संक्रांति को सूर्य देव मकर राशि में प्रवेश करेंगे। शास्त्रों की मान्यता के अनुसार, मकर संक्रांति पर गंगा स्नान का बड़ा महत्व है। हर साल उत्तर भारत से लाखों श्रद्धालु हरिद्वार पहुंचते हैं। हालांकि, इस बार कोरोना संक्रमण के कारण भीड़ कुछ कम जुटने की संभावना जताई जा रही है। फिर भी पांच लाख से अधिक श्रद्धालुओं के पहुंचने की संभावनाओं को देखते हुए व्यवस्थाएं की गई हैं।

हरकी पैड़ी क्षेत्र के सभी घाटों को चमका दिया गया है। महिला श्रद्धालुओं के लिए हरकी पैड़ी क्षेत्र के प्लेटफार्म पर रेडिमेड चेजिंग रूम लगाए गए हैं। श्रद्धालुओं को गंगा आरती दर्शन के लिए चार डिस्प्ले भी लगाए गए हैं। घाटों पर एटीएस, डॉग स्क्वायड, एसटीएफ और पैरमिलिट्री के जवानों की कड़ी सुरक्षा निगरानी रहेगी।


आगे पढ़ें

स्नान पर आखिर तक सतर्क रहे : आईजी 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed