March 1, 2021

ऋषिकेश: सीएम त्रिवेंद्र ने चांडी पुल जनता को किया समर्पित, 70 करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास भी किया


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, ऋषिकेश
Updated Sun, 17 Jan 2021 08:09 PM IST

चांडी पुल का लोकार्पण करते सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

ऋषिकेश में माजरी ग्रांट जाखण नदी पर नवनिर्मित चांडी पुल का लोकार्पण के साथ मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने लालतप्पड़, डोईवाला में विधानसभा की लगभग 70 करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। जिन महत्वपूर्ण योजनाओं का लोकार्पण किया गया उनमें 2.73 करोड़ की लागत के चांडी प्लांटेशन गुरुद्वारा मोटर मार्ग, रानीपोखरी एवं अठूरवाला क्लस्टर में विभिन्न ग्राम सभाओं के लिए लगभग 18 करोड़ रुपये की लागत के आंतरिक ग्राम सड़क संयोजकता के कार्य शामिल हैं। जिन महत्वपूर्ण योजनाओं का शिलान्यास किया गया, उनमें 1.38 करोड़ की अनुमानित लागत के ग्रामीण हाट बाजार रानीपोखरी का पुनरोद्धार, 1.61 करोड़ की लागत के रानीपोखरी में बहुउद्देशीय विकास केंद्र एवं विपणन आउटलेट का निर्माण कार्य शामिल हैं। 

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने की दिशा में योजनाबद्ध तरीके से काम कर रही है। उन्होंने कहा कि आपदा को अवसर में बदलने में भारत सक्षम होने लगा है। देश में कोरोना टीकाकरण शुरू होने पर इसके लिए वैज्ञानिक और केंद्र सरकार बधाई की पात्र हैं। उन्होंने बताया कि दिल्ली और देहरादून के बीच एक्सप्रेसवे बनाने की दिशा में कदम उठाया है। सीएम ने कहा कि लच्छीवाला में करोड़ों की लागत से पार्क को नया रूप देकर पर्यटन का नया हब बनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पर्वतीय इलाकों के विकास के लिए महिलाओं को जमीनों के खाते में पति के साथ पत्नी का भी नाम देने का काम सरकार कर रही है।

पर्वतीय इलाकों में महिलाएं पशुपालन के लिए घास का बोझ अपने सिर पर लेकर आती हैं। इससे उनके साथ विभिन्न प्रकार की दुर्घटनाएं हो जाती हैं। आने वाले समय में महिलाओं से घास का बोझ हटाना सरकार की प्राथमिकता में रहेगा। मुख्यमंत्री ने नूनावाला गुरुद्वारे के लिए एक करोड़ 81 लाख रुपये देने की घोषणा की।  मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य बनने के बाद सड़कों के पुनर्निर्माण के लिए कभी 200 करोड़ से अधिक धनराशि नहीं दी गई। पिछले पौने चार साल में 630 करोड़ की धनराशि दी गई। उन्होंने कहा कि 125 पुलों के निर्माण के लिए 350 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है। सड़के एवं पुल विकास के लिए बहुत जरूरी हैं। सूर्याधार झील बनकर तैयार है। यह पेयजल एवं सिंचाई के लिए महत्वपूर्ण होगी। सौंग बांध का शिलान्यास जल्द किया जाएगा। इसके बनने से देहरादून को दीर्घ अवधि तक ग्रेविटी वाटर उपलब्ध होगा। इससे 100 करोड़ से अधिक वार्षिक बिजली का खर्चा बचेगा।

लोकार्पण कार्यक्रम के दौरान कलाकारों ने रंगारंग सांस्कृतिक प्रस्तुतियां देकर लोगों का मनोरंजन किया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के विशेष कार्य अधिकारी धीरेंद्र सिंह पवार, वन पंचायत सलाहकार परिषद के उपाध्यक्ष करन वोरा, ब्लॉक प्रमुख भगवान सिंह पोखरियाल, अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग के उपाध्यक्ष खेमचंद पाल, माजरी ग्रांट भाजपा अध्यक्ष राजकुमार, डोईवाला अध्यक्ष विनय कंडवाल, रानीपोखरी अध्यक्ष राजेंद्र मनवाल, संपूर्ण सिंह रावत, संजीव सैनी, पंकज रावत, ललित पंत, सुमन लता, अशोक राज पंवार, ऋषिकेश मेयर अनिता ममगाईं, गढ़वाल मंडल विकास निगम के उपाध्यक्ष कृष्ण कुमार सिंघल आदि मौजूद थे

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह ने कहा कि डोईवाला विधानसभा में इन चार सालों में केवल सड़कों एवं पुलों के ही 100 करोड़ रुपये से अधिक के कार्य हुए। भानियावाला से ऋषिकेश डबल लेन के कार्य के लिए जल्द स्वीकृति करवाई जाएगी। डोईवाला से बुल्लावाला, आशारोड़ी होते हुए सुद्धोवाला तक डबल लेन सड़क बनाने की योजना पर कार्य किया जा रहा है। छह करोड़ रुपये की लागत से लच्छीवाला में पार्क का विकास किया जा रहा है। इस पार्क का कार्य एक माह में पूरा हो जाएगा। 

सार

  • सीएम ने कहा, पहली बार सड़कों के निर्माण में खर्च की गई 630 करोड़ रुपये की धनराशि

विस्तार

ऋषिकेश में माजरी ग्रांट जाखण नदी पर नवनिर्मित चांडी पुल का लोकार्पण के साथ मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने लालतप्पड़, डोईवाला में विधानसभा की लगभग 70 करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। जिन महत्वपूर्ण योजनाओं का लोकार्पण किया गया उनमें 2.73 करोड़ की लागत के चांडी प्लांटेशन गुरुद्वारा मोटर मार्ग, रानीपोखरी एवं अठूरवाला क्लस्टर में विभिन्न ग्राम सभाओं के लिए लगभग 18 करोड़ रुपये की लागत के आंतरिक ग्राम सड़क संयोजकता के कार्य शामिल हैं। जिन महत्वपूर्ण योजनाओं का शिलान्यास किया गया, उनमें 1.38 करोड़ की अनुमानित लागत के ग्रामीण हाट बाजार रानीपोखरी का पुनरोद्धार, 1.61 करोड़ की लागत के रानीपोखरी में बहुउद्देशीय विकास केंद्र एवं विपणन आउटलेट का निर्माण कार्य शामिल हैं। 

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने की दिशा में योजनाबद्ध तरीके से काम कर रही है। उन्होंने कहा कि आपदा को अवसर में बदलने में भारत सक्षम होने लगा है। देश में कोरोना टीकाकरण शुरू होने पर इसके लिए वैज्ञानिक और केंद्र सरकार बधाई की पात्र हैं। उन्होंने बताया कि दिल्ली और देहरादून के बीच एक्सप्रेसवे बनाने की दिशा में कदम उठाया है। सीएम ने कहा कि लच्छीवाला में करोड़ों की लागत से पार्क को नया रूप देकर पर्यटन का नया हब बनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पर्वतीय इलाकों के विकास के लिए महिलाओं को जमीनों के खाते में पति के साथ पत्नी का भी नाम देने का काम सरकार कर रही है।

पर्वतीय इलाकों में महिलाएं पशुपालन के लिए घास का बोझ अपने सिर पर लेकर आती हैं। इससे उनके साथ विभिन्न प्रकार की दुर्घटनाएं हो जाती हैं। आने वाले समय में महिलाओं से घास का बोझ हटाना सरकार की प्राथमिकता में रहेगा। मुख्यमंत्री ने नूनावाला गुरुद्वारे के लिए एक करोड़ 81 लाख रुपये देने की घोषणा की।  मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य बनने के बाद सड़कों के पुनर्निर्माण के लिए कभी 200 करोड़ से अधिक धनराशि नहीं दी गई। पिछले पौने चार साल में 630 करोड़ की धनराशि दी गई। उन्होंने कहा कि 125 पुलों के निर्माण के लिए 350 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है। सड़के एवं पुल विकास के लिए बहुत जरूरी हैं। सूर्याधार झील बनकर तैयार है। यह पेयजल एवं सिंचाई के लिए महत्वपूर्ण होगी। सौंग बांध का शिलान्यास जल्द किया जाएगा। इसके बनने से देहरादून को दीर्घ अवधि तक ग्रेविटी वाटर उपलब्ध होगा। इससे 100 करोड़ से अधिक वार्षिक बिजली का खर्चा बचेगा।


आगे पढ़ें

भानियावाला से ऋषिकेश तक डबल लेन सड़क बनेगी



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *