March 1, 2021

बर्ड फ्लू का खौफ: सोनभद्र में फिर मिले पांच मृत कौवे, पहले मिले कौवों की रिपोर्ट का इंतजार


प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में मृत कौवे।
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

उत्तर प्रदेश में बर्ड फ्लू को लेकर स्वास्थ्य विभाग पहले से चौकन्ना है। वहीं सोनभद्र जिले के चोपन और सलखन में भी शनिवार को फिर पांच कौवे मृत मिले हैं। तीन दिन पहले भी डाला के बाड़ी इलाके में कई कौवे मृत मिले थे, जिनकी रिपोर्ट अभी भोपाल से आई नहीं है। मृत मिले कौवों को पशु चिकित्सा विभाग की टीम ने कब्जे में ले लिया।  
चोपन के हिल कॉलोनी में सुबह एक कौवा मृत मिला तो आसपास के लोगों ने पशु चिकित्सा विभाग को जानकारी दी। तभी अवकाश नगर और डाकघर परिसर में भी तीन कौवों के मरने की जानकारी मिली। मौके पर पहुंची पशु चिकित्साधिकारी डॉ. सत्य प्रकाश ने कहा कि मृत मिले कौवों में बर्ड फ्लू के कोई लक्षण नहीं हैं। इनकी मौत ठंड लगने से हुई है या तो कीटनाशक से।

इन दिनों खेतों में किसान कीटनाशक का छिड़काव करते हैं। संभव है कि ये कौवे कीटनाशक खा गए हों। वैसे हर स्थिति पर नजर रखी जा रही है। सलखन के आदिवासी हॉस्टल में भी दो कौवों के मरने की सूचना मिली है।

पशु चिकित्सा विभाग अलर्ट
जिले में बर्ड फ्लू पांव न पसारने पाए, इसलिए पशु चिकित्सा विभाग अलर्ट है। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. एके श्रीवास्तव ने बताया कि चार टीमों को 24 घंटे अलर्ट रहने के लिए कहा गया है। जहां भी कोई सूचना मिले, तत्काल हकीकत देखें। इसके साथ जल्द ही जिलाधिकारी की अध्यक्षता में टास्क फोर्स की बैठक की जाएगी। डाला में मृत मिले कौवों का पोस्टमार्टम कराया गया, उसमें ठंड से मौत की जानकारी मिली है। भोपाल लैब की रिपोर्ट आने में अभी समय लगेगा।

क्या है बर्ड फ्लू
एवियन इन्फ्लूएंजा(एच5, एन1) वायरस को बर्ड फ्लू भी कहते हैं। इसका संक्रमण पक्षियों के साथ ही इंसानों को प्रभावित करता है। मुर्गा, बत्तख आदि पक्षियों में इसकी संभावना अधिक रहती है। समय से ध्यान न देने पर मौत भी हो सकती है।

बर्ड फ्लू के लक्षण 
– बुखार
– हमेशा कफ रहना
– नाक बहना
– सिर में दर्द 
– गले में सूजन
– मांसपेशियों में दर्द
– दस्त होना
– हर वक्त उल्टी आने जैसा महसूस होना
– पेट के निचले हिस्से में दर्द रहना
– सांस लेने में समस्या, सांस न आना, निमोनिया होना
– आंखों में कंजक्टिवाइटिस का संक्रमण

ये बरते सावधानियां 
– मरे हुए पक्षियों से दूर रहें।
– अगर किसी पक्षी की मौत होती है तो इसकी सूचना विभाग को दें।
– बर्ड फ्लू वाले एरिया में नॉनवेज न खरीदें और न ही खाएं।
– घर से बाहर मॉस्क पहनकर बाहर निकलें।

उत्तर प्रदेश में बर्ड फ्लू को लेकर स्वास्थ्य विभाग पहले से चौकन्ना है। वहीं सोनभद्र जिले के चोपन और सलखन में भी शनिवार को फिर पांच कौवे मृत मिले हैं। तीन दिन पहले भी डाला के बाड़ी इलाके में कई कौवे मृत मिले थे, जिनकी रिपोर्ट अभी भोपाल से आई नहीं है। मृत मिले कौवों को पशु चिकित्सा विभाग की टीम ने कब्जे में ले लिया।  

चोपन के हिल कॉलोनी में सुबह एक कौवा मृत मिला तो आसपास के लोगों ने पशु चिकित्सा विभाग को जानकारी दी। तभी अवकाश नगर और डाकघर परिसर में भी तीन कौवों के मरने की जानकारी मिली। मौके पर पहुंची पशु चिकित्साधिकारी डॉ. सत्य प्रकाश ने कहा कि मृत मिले कौवों में बर्ड फ्लू के कोई लक्षण नहीं हैं। इनकी मौत ठंड लगने से हुई है या तो कीटनाशक से।

इन दिनों खेतों में किसान कीटनाशक का छिड़काव करते हैं। संभव है कि ये कौवे कीटनाशक खा गए हों। वैसे हर स्थिति पर नजर रखी जा रही है। सलखन के आदिवासी हॉस्टल में भी दो कौवों के मरने की सूचना मिली है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed