March 1, 2021

उमर की तलाश में सीबीआई ने पूर्व सांसद अतीक अहमद के घर पर मारा छापा


prayagraj news : उमर और अतीक अहमद।
– फोटो : prayagraj

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

दो लाख केइनामी और अतीक अहमद केसबसे बड़े बेटे उमर की तलाश में सीबीआई टीम ने एक बार फिर छापेमारी की। दो सदस्यीय टीम ने चकिया स्थित अतीक के पुश्तैनी मकान पर छापा मारा। साथ ही मोहल्ले में रहने वाले रिश्तेदारों केघर भी दबिश दी। फिलहाल टीम को निराशा ही हाथ लगी लेकिन छापेमारी से हड़कंप रहा।

दो लाख का इनामी उमर लखनऊ केप्रॉपर्टी डीलर मोहित जायसवाल को देवरिया जेल में ले जाकर पीटने केमामले में पिता अतीक संग नामजद है। मामले की जांच पहले लखनऊ पुलिस ने की और बाद में इसे सीबीआई को सौंप दिया गया। सीबीआई ने एफआईआर दर्ज करने के बाद कई आरोपियों को जेल भेजा लेकिन उमर का कुछ पता नहीं चला।

उसकी तलाश में देा बार पहले भी सीबीआई टीम छापेमारी कर चुकी है। बुधवार सुबह सीबीआई की दो सदस्यीय टीम एक बार फिर उसकी तलाश में छापा मारने पहुंची। टीम सुबह 8.30 बजे केकरीब चकिया स्थित अतीक केपुश्तैनी मकान पर पहुंची। दरअसल टीम को सूचना मिली थी कि वह चकिया में ही कहीं छिपा है। खंडहर में तब्दील पुश्तैनी मकान केपास काफी देर तक उसकी तलाश की जाती रही।

इसके बाद टीम ने अतीक केघर केपास ही मोहल्ले में रहने वाले उसकेरिश्तेदारों केघर दबिश दी। वहां पहुंचकर उमर केबारे में पूछताछ की। लेकिन परिवारवाले यही कहते रहेकि उमर केबारे में उन्हें कुछ भी नहीं मालूम। करीब आधे घंटे तक सुरागरशी करने केबाद टीम वापस लौट गई। मौकेपर धूमनगंज व करेली पुलिस भी मौजूद रही। कार्रवाई से चकिया में हड़कंप मचा रहा। हालांकि पुलिस इस बारे में कुछ बताने से इंकार करती रही।

मेरठ में मिली थी लोकेशन, हुई छापेमारी

प्रयागराज। देवरिया जेल कांड की विवेचना सीबीआई केहवाले होने केबाद से ही फरार 21 वर्षीय उमर की तलाश में चार महीने पहले मेरठ में एसटीएफ ने छापेमारी की थी। सूचना मिली थी कि वह नौचंदी में रहने वाले अपने फूफा के घर पर छिपा है। हालांकि एसटीएफ केपहुंचने पर वहां सिर्फ उसका छोटा भाई अली मिला था। जिसे पूछताछ केबाद छोड़ दिया गया था।

18 लोगों पर दर्ज किया था केस

मोहित जायसवाल ने 2018 में खुद को देवरिया जेल में ले जाकर पीटने का मामला लखनऊ के कृष्णा नगर में दर्ज कराया था। इसमें आठ लोगों पर चार्जशीट हुई। सुप्रीम कोर्ट केनिर्देश पर सीबीआई ने अतीक उमर संग 18 लोगों पर केस दर्ज कर जांच शुरू की। दो आरोपियों फारुख व जकी को सीबीआई पिछले साल शहर से ही गिरफ्तार कर ले गई थी।

दो लाख केइनामी और अतीक अहमद केसबसे बड़े बेटे उमर की तलाश में सीबीआई टीम ने एक बार फिर छापेमारी की। दो सदस्यीय टीम ने चकिया स्थित अतीक के पुश्तैनी मकान पर छापा मारा। साथ ही मोहल्ले में रहने वाले रिश्तेदारों केघर भी दबिश दी। फिलहाल टीम को निराशा ही हाथ लगी लेकिन छापेमारी से हड़कंप रहा।

दो लाख का इनामी उमर लखनऊ केप्रॉपर्टी डीलर मोहित जायसवाल को देवरिया जेल में ले जाकर पीटने केमामले में पिता अतीक संग नामजद है। मामले की जांच पहले लखनऊ पुलिस ने की और बाद में इसे सीबीआई को सौंप दिया गया। सीबीआई ने एफआईआर दर्ज करने के बाद कई आरोपियों को जेल भेजा लेकिन उमर का कुछ पता नहीं चला।

उसकी तलाश में देा बार पहले भी सीबीआई टीम छापेमारी कर चुकी है। बुधवार सुबह सीबीआई की दो सदस्यीय टीम एक बार फिर उसकी तलाश में छापा मारने पहुंची। टीम सुबह 8.30 बजे केकरीब चकिया स्थित अतीक केपुश्तैनी मकान पर पहुंची। दरअसल टीम को सूचना मिली थी कि वह चकिया में ही कहीं छिपा है। खंडहर में तब्दील पुश्तैनी मकान केपास काफी देर तक उसकी तलाश की जाती रही।

इसके बाद टीम ने अतीक केघर केपास ही मोहल्ले में रहने वाले उसकेरिश्तेदारों केघर दबिश दी। वहां पहुंचकर उमर केबारे में पूछताछ की। लेकिन परिवारवाले यही कहते रहेकि उमर केबारे में उन्हें कुछ भी नहीं मालूम। करीब आधे घंटे तक सुरागरशी करने केबाद टीम वापस लौट गई। मौकेपर धूमनगंज व करेली पुलिस भी मौजूद रही। कार्रवाई से चकिया में हड़कंप मचा रहा। हालांकि पुलिस इस बारे में कुछ बताने से इंकार करती रही।

मेरठ में मिली थी लोकेशन, हुई छापेमारी

प्रयागराज। देवरिया जेल कांड की विवेचना सीबीआई केहवाले होने केबाद से ही फरार 21 वर्षीय उमर की तलाश में चार महीने पहले मेरठ में एसटीएफ ने छापेमारी की थी। सूचना मिली थी कि वह नौचंदी में रहने वाले अपने फूफा के घर पर छिपा है। हालांकि एसटीएफ केपहुंचने पर वहां सिर्फ उसका छोटा भाई अली मिला था। जिसे पूछताछ केबाद छोड़ दिया गया था।

18 लोगों पर दर्ज किया था केस

मोहित जायसवाल ने 2018 में खुद को देवरिया जेल में ले जाकर पीटने का मामला लखनऊ के कृष्णा नगर में दर्ज कराया था। इसमें आठ लोगों पर चार्जशीट हुई। सुप्रीम कोर्ट केनिर्देश पर सीबीआई ने अतीक उमर संग 18 लोगों पर केस दर्ज कर जांच शुरू की। दो आरोपियों फारुख व जकी को सीबीआई पिछले साल शहर से ही गिरफ्तार कर ले गई थी।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed