February 28, 2021

अब यूपी के हर जिले में कल्पवासियों का एंटीजन टेस्ट


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

माघ मेले में जप, तप और ध्यान के लिए आने वाले संतों और कल्पवासियों के कोरोना संक्रमण की जांच अब हर जिले में की जाएगी। इसके लिए मेला प्रशासन की ओर से तैयार पोर्टल के जरिए कल्पवासियों की सूची हर जिले के प्रशासन को उपलब्ध कराई जा रही है। ताकि, संबंधित जिलों में जांच कराने के बाद रिपोर्ट लेकर ही कल्पवासी माघ मेला में प्रवेश करें।

अलग-अलग इलाकों से संतों-कल्पवासियों के मेला क्षेत्र में पहुंचने के साथ ही कोरोना संक्रमण रोकने के लिए पसीना बहाया जाने लगा है। भीड़ बढ़ने के साथ ही कोरोना संक्रमण रोकने के लिए व्यापक रणनीति बनाई जा रही है। इसके लिए यूपी के हर जिले में कल्पवासियों को चिह्नित किया जा रहा है। माघ मेले में शिविर लगाने वाली संस्थाओं के माध्यम से प्रदेश भर के कल्पवासियों का जिलेवार विवरण तैयार कर लिया गया है।

इसे हर जिले के प्रशासन को भेजा गया है, ताकि वहीं पर उनका एंटीजन टेस्ट कराया जाए और फिर उन्हें माघ मेले में कल्पवास के लिए भेजा जाए। इसके लिए प्रयागराज मेला प्राधिकरण में सूचीबद्ध सांस्कृतिक, धार्मिक संस्थाओं और प्रयागवाल सभा के तीर्थपुरोहितों की मदद ली जा रही है। संस्थाओं की ओर से संगम की रेती पर लगाए जाने वाले शिविरों के संचालकों से कल्पवासियों की सूची तैयार कराई जा रही है और उसे पोर्टल पर अपलोड कराया जा रहा है। साथ ही ऐसे सूचीबद्ध कल्पवासियों के बारे में संबंधित जनपदों को भी जानकारी भेजी जा रही है, ताकि जो जहां हैं, वहीं उनका एंटीजन टेस्ट कराया जा सके।

माघ मेले में सात सौ लोगों की कोरोना जांच

माघ मेला क्षेत्र में रविवार को सात सौ से अधिक लोगों की कोरोना जांच कराई गई। प्रतिदिन 600 से 800 के बीच टेस्ट किए जा रहे हैं। माघ मेला के कोविड-19 नोडल प्रभारी डॉ ऋषि सहाय के मुताबिक अब तक 14 हजार से अधिक संतों और कल्पवासियों की जांच की जा चुकी है। डोर-टू-डोर सर्वे तेज कर दिया गया है।
 

  • माघ मेला में आने वाले कल्पवासियों का डाटा पोर्टल पर अपलोड किया जा रहा है। इसके लिए शिविर लगाने वाली संस्थाओं की मदद ली जा रही है। इस अभियान के जरिए प्रदेश या देश के किसी भी हिस्से से आने वाले कल्पवासियों को चिह्नित कर उनकी सूची संबंधित जिलों को भेजी जा रही है, ताकि उनका टेस्ट उनकेजनपद में ही करा लिया जाए। -डॉ. ऋषि सहाय, नोडल अफसर कोविड-19 माघ मेला।

माघ मेले में जप, तप और ध्यान के लिए आने वाले संतों और कल्पवासियों के कोरोना संक्रमण की जांच अब हर जिले में की जाएगी। इसके लिए मेला प्रशासन की ओर से तैयार पोर्टल के जरिए कल्पवासियों की सूची हर जिले के प्रशासन को उपलब्ध कराई जा रही है। ताकि, संबंधित जिलों में जांच कराने के बाद रिपोर्ट लेकर ही कल्पवासी माघ मेला में प्रवेश करें।

अलग-अलग इलाकों से संतों-कल्पवासियों के मेला क्षेत्र में पहुंचने के साथ ही कोरोना संक्रमण रोकने के लिए पसीना बहाया जाने लगा है। भीड़ बढ़ने के साथ ही कोरोना संक्रमण रोकने के लिए व्यापक रणनीति बनाई जा रही है। इसके लिए यूपी के हर जिले में कल्पवासियों को चिह्नित किया जा रहा है। माघ मेले में शिविर लगाने वाली संस्थाओं के माध्यम से प्रदेश भर के कल्पवासियों का जिलेवार विवरण तैयार कर लिया गया है।

इसे हर जिले के प्रशासन को भेजा गया है, ताकि वहीं पर उनका एंटीजन टेस्ट कराया जाए और फिर उन्हें माघ मेले में कल्पवास के लिए भेजा जाए। इसके लिए प्रयागराज मेला प्राधिकरण में सूचीबद्ध सांस्कृतिक, धार्मिक संस्थाओं और प्रयागवाल सभा के तीर्थपुरोहितों की मदद ली जा रही है। संस्थाओं की ओर से संगम की रेती पर लगाए जाने वाले शिविरों के संचालकों से कल्पवासियों की सूची तैयार कराई जा रही है और उसे पोर्टल पर अपलोड कराया जा रहा है। साथ ही ऐसे सूचीबद्ध कल्पवासियों के बारे में संबंधित जनपदों को भी जानकारी भेजी जा रही है, ताकि जो जहां हैं, वहीं उनका एंटीजन टेस्ट कराया जा सके।

माघ मेले में सात सौ लोगों की कोरोना जांच

माघ मेला क्षेत्र में रविवार को सात सौ से अधिक लोगों की कोरोना जांच कराई गई। प्रतिदिन 600 से 800 के बीच टेस्ट किए जा रहे हैं। माघ मेला के कोविड-19 नोडल प्रभारी डॉ ऋषि सहाय के मुताबिक अब तक 14 हजार से अधिक संतों और कल्पवासियों की जांच की जा चुकी है। डोर-टू-डोर सर्वे तेज कर दिया गया है।

 

  • माघ मेला में आने वाले कल्पवासियों का डाटा पोर्टल पर अपलोड किया जा रहा है। इसके लिए शिविर लगाने वाली संस्थाओं की मदद ली जा रही है। इस अभियान के जरिए प्रदेश या देश के किसी भी हिस्से से आने वाले कल्पवासियों को चिह्नित कर उनकी सूची संबंधित जिलों को भेजी जा रही है, ताकि उनका टेस्ट उनकेजनपद में ही करा लिया जाए। -डॉ. ऋषि सहाय, नोडल अफसर कोविड-19 माघ मेला।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *