March 7, 2021

प्रचंड ठंड से जमने लगा हरियाणा, 10 साल में चौथी बार हिसार में पारा शून्य पर पहुंचा


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़
Updated Wed, 30 Dec 2020 01:19 AM IST

हिसार में खेत में जमा पाला।
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

पहाड़ों पर बर्फबारी के कारण प्रदेश भर में चल रही शीत लहर के चलते पारा जमाव बिंदु पर पहुंच गया है। हिसार में रात भर पाला पड़ा और पिछले 10 वर्षों में चौथी बार रात्रि तापमान जमाव बिंदु पर पहुंचा। रात्रि तापमान 0.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हिसार का रात्रि तापमान इससे पहले वर्ष 2018 में 26 दिसंबर को माइनस 1 डिग्री पहुंच गया था।

मंगलवार को नारनौल का रात्रि तापमान भी जमाव बिंदु के करीब 0.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। दिनभर शीत लहर के चलते जनजीवन प्रभावित रहा। सिरसा का दिन का तापमान प्रदेश में सबसे कम 12 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। नारनौल को छोड़कर प्रदेश के अधिकांश स्थानों पर अधिकतम तापमान 15.5 डिग्री सेल्सियस रहा। नारनौल का अधिकतम तापमान 20.5 डिग्री सेल्सियस रहा। 


                                            खेत में जमा पाला और पानी में जमी बर्फ।

माइनस 1.5 डिग्री रहा है ठंड का रिकॉर्ड 
हिसार जिले में ठंड का रिकॉर्ड वर्ष 1973 में बना। तब 29 दिसंबर 1973 की रात का तापमान माइनस 1.5 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया था। पिछले 10 वर्षों की बात करें तो 26 नवंबर 2018 में यह माइनस एक डिग्री, 29 दिसंबर 2013 को माइनस 0.8 डिग्री, 25 दिसंबर 2011 को 0.0 डिग्री और 28 व 29 दिसंबर 2019 को रात्रि तापमान 0.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। 

आज भी पाला पड़ेगा, तापमान गिरेगा 
चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कृषि मौसम विभाग के अध्यक्ष डॉ. मदन खिचड़ के अनुसार, पहाड़ों में हुई बर्फबारी और प्रदेश में उत्तर-पश्चिमी हवाएं चलने के चलते रात्रि तापमान में लगातार गिरावट हो रही है। इन कारणों के चलते 31 दिसंबर तक प्रदेश में पाला पड़ने और रात्रि तापमान में गिरावट की संभावना है। इस दौरान वातावरण में नमी अधिक होने से अलसुबह धुंध रहेगी।

  • जिला    अधिकतम    न्यूनतम
  • नारनौल      20.5        0.3
  • हिसार         15.0        0.0
  • अंबाला        15.4        3.5
  • भिवानी        14.0       3.0
  • करनाल       15.4        2.6
  • रोहतक        14.6        2.6
  • सिरसा         12.0        2.5
  • कुरुक्षेत्र        15.5        3.0
पहाड़ों पर बर्फबारी के कारण प्रदेश भर में चल रही शीत लहर के चलते पारा जमाव बिंदु पर पहुंच गया है। हिसार में रात भर पाला पड़ा और पिछले 10 वर्षों में चौथी बार रात्रि तापमान जमाव बिंदु पर पहुंचा। रात्रि तापमान 0.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हिसार का रात्रि तापमान इससे पहले वर्ष 2018 में 26 दिसंबर को माइनस 1 डिग्री पहुंच गया था।

मंगलवार को नारनौल का रात्रि तापमान भी जमाव बिंदु के करीब 0.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। दिनभर शीत लहर के चलते जनजीवन प्रभावित रहा। सिरसा का दिन का तापमान प्रदेश में सबसे कम 12 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। नारनौल को छोड़कर प्रदेश के अधिकांश स्थानों पर अधिकतम तापमान 15.5 डिग्री सेल्सियस रहा। नारनौल का अधिकतम तापमान 20.5 डिग्री सेल्सियस रहा। 


                                            खेत में जमा पाला और पानी में जमी बर्फ।

माइनस 1.5 डिग्री रहा है ठंड का रिकॉर्ड 
हिसार जिले में ठंड का रिकॉर्ड वर्ष 1973 में बना। तब 29 दिसंबर 1973 की रात का तापमान माइनस 1.5 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया था। पिछले 10 वर्षों की बात करें तो 26 नवंबर 2018 में यह माइनस एक डिग्री, 29 दिसंबर 2013 को माइनस 0.8 डिग्री, 25 दिसंबर 2011 को 0.0 डिग्री और 28 व 29 दिसंबर 2019 को रात्रि तापमान 0.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। 

आज भी पाला पड़ेगा, तापमान गिरेगा 
चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कृषि मौसम विभाग के अध्यक्ष डॉ. मदन खिचड़ के अनुसार, पहाड़ों में हुई बर्फबारी और प्रदेश में उत्तर-पश्चिमी हवाएं चलने के चलते रात्रि तापमान में लगातार गिरावट हो रही है। इन कारणों के चलते 31 दिसंबर तक प्रदेश में पाला पड़ने और रात्रि तापमान में गिरावट की संभावना है। इस दौरान वातावरण में नमी अधिक होने से अलसुबह धुंध रहेगी।

  • जिला    अधिकतम    न्यूनतम
  • नारनौल      20.5        0.3
  • हिसार         15.0        0.0
  • अंबाला        15.4        3.5
  • भिवानी        14.0       3.0
  • करनाल       15.4        2.6
  • रोहतक        14.6        2.6
  • सिरसा         12.0        2.5
  • कुरुक्षेत्र        15.5        3.0



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed