March 9, 2021

औरंगाबाद का नाम बदलकर संभाजीनगर करने के विवाद को आपस में बैठकर सुलझाएंगे: अजीत पवार


उद्धव ठाकरे-अजित पवार
– फोटो : Facebook

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

महाराष्ट्र के औरंगाबाद का नाम बदलकर संभाजीनगर करने के मुद्दे पर उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने बृहस्पतिवार को कहा कि इस मामले को शिवसेना-कांग्रेस के नेता साथ मिल बैठकर सुलझाएंगे। उनका प्रयास रहेगा कि महाविकास आघाड़ी बनी रहे और इसका लाभ विपक्ष न उठा सके।

पवार ने कहा कि औरंगाबाद के मुद्दे पर अनायास ही महाविकास आघाड़ी सरकार में मतभेद पैदा करने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि महाविकास आघाड़ी में कौन तनाव बढ़ाने का प्रयास कर रहा है, इसका भी पता लगाएंगे।  

बता दें कि दिवंगत शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे ने साल 1988 में इस शहर का नाम बदलकर संभाजी नगर रखने की मांग की थी। उसके बाद से ही नाम बदलने की राजनीति शुरू है। चूंकि औरंगाबाद महानगरपालिका के चुनाव होने वाले हैं इसलिए शिवसेना ने इस मुद्दे को फिर से तूल दे दिया है।

जबकि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष व राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात ने नाम बदलने का कड़ा विरोध किया है। वहीं, विपक्ष के नेता देवेन्द्र फडणवीस ने नाम बदलने की राजनीति को नूरा-कुश्ती करार देते हुए कहा है कि चुनाव के चलते शिवसेना और कांग्रेस नाटक कर रही हैं। अजीत पवार ने बृहस्पतिवार को कहा कि इस मामले को सुलझाने के लिए शिवसेना-कांग्रेस के नेताओं के साथ मिलकर सुलझाएंगे।

महाराष्ट्र के औरंगाबाद का नाम बदलकर संभाजीनगर करने के मुद्दे पर उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने बृहस्पतिवार को कहा कि इस मामले को शिवसेना-कांग्रेस के नेता साथ मिल बैठकर सुलझाएंगे। उनका प्रयास रहेगा कि महाविकास आघाड़ी बनी रहे और इसका लाभ विपक्ष न उठा सके।

पवार ने कहा कि औरंगाबाद के मुद्दे पर अनायास ही महाविकास आघाड़ी सरकार में मतभेद पैदा करने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि महाविकास आघाड़ी में कौन तनाव बढ़ाने का प्रयास कर रहा है, इसका भी पता लगाएंगे।  

बता दें कि दिवंगत शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे ने साल 1988 में इस शहर का नाम बदलकर संभाजी नगर रखने की मांग की थी। उसके बाद से ही नाम बदलने की राजनीति शुरू है। चूंकि औरंगाबाद महानगरपालिका के चुनाव होने वाले हैं इसलिए शिवसेना ने इस मुद्दे को फिर से तूल दे दिया है।

जबकि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष व राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात ने नाम बदलने का कड़ा विरोध किया है। वहीं, विपक्ष के नेता देवेन्द्र फडणवीस ने नाम बदलने की राजनीति को नूरा-कुश्ती करार देते हुए कहा है कि चुनाव के चलते शिवसेना और कांग्रेस नाटक कर रही हैं। अजीत पवार ने बृहस्पतिवार को कहा कि इस मामले को सुलझाने के लिए शिवसेना-कांग्रेस के नेताओं के साथ मिलकर सुलझाएंगे।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *