March 1, 2021

सिंघु बॉर्डर: मिनी अस्पताल में 24 घंटे चल रहा है इलाज, अब तक 15 मरीज हो चुके हैं भर्ती


अस्पताल में 24 घंटे इमरजेंसी सेवा
– फोटो : amar ujala

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

सिंघु बॉर्डर पर किसानों को मिनी अस्पताल में 24 घंटे इमरजेंसी सेवा दी जा रही है।। इसमें बेड की सुविधा के साथ-साथ ऑक्सीजन व ईसीजी आदि की सुविधा भी प्रदान की जा रही है। साथ ही बॉयोकेमिस्ट्री लैब भी बनाई गई है। वहीं, अब तक अस्पताल में 15 मरीजों को भर्ती किया जा चुका है।

बॉर्डर पर टेंट के माध्यम से मिनी अस्पताल बनाया गया है। इस अस्पताल में शुरुआती तौर पर चार बेड की व्यवस्था की गई है। इनमें से दो बेड को ऑक्सीजन के साथ जोड़ा गया है। वहीं, दो ईसीजी मशीनें भी लगाई गई हैं। इसमें से एक चलित ईसीजी मशीन है।
 
अस्पताल में कार्यरत डॉ. चंदन सिंह ने बताया कि अस्पताल में चार डॉक्टरों की टीम और चार नर्स स्टाफ तैनात हैं। प्रत्येक डॉक्टर व नर्स की शिफ्ट भी तय की गई है। उन्होंने बताया कि अब तक यहां करीब 15 मरीजों को भर्ती किया जा चुका है। 

हालांकि, इनमें से कई मरीज डिस्चार्ज भी हो चुके हैं। शनिवार को भी तीन से चार मरीजों को डिस्चार्ज किया गया है। डॉ. चंदन ने कहा कि आपात स्थिति के लिए एंबुलेंस की व्यवस्था भी की गई है। ऐसे में यदि किसी मरीज की तबीयत अधिक बिगड़ती है तो उसे एंबुलेंस के माध्यम से दूसरे अस्पताल में रेफर किया जाएगा।

आगामी दिनों में बढ़ाई जाएगी बेड की संख्या 
डॉ. चंदन सिंह ने बताया कि लगातार मरीज इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। इसे देखते हुए आगामी दिनों में दो अतिरिक्त बेड की व्यवस्था करने का निर्णय लिया गया है। अतिरिक्त बेड को भी ऑक्सीजन की सुविधा के अस्पताल के साथ जोड़ा जाएगा। इन बेड में भी ऑक्सीजन की व्यवस्था करने की कोशिश की जाएगी। 

एक दिन में की जा रही करीब 400 शुगर मरीजों की जांच
डॉक्टर सादिक मोहम्मद ने बताया कि मिनी अस्पताल में एक दिन में करीब 300 से 400 शुगर के मरीज शिकायत लेकर पहुंच रहे हैं। इनकी जांच के लिए एक छोटी लैब भी बनाई गई है। यहां खून के नमूनों की जांच की जाती है। 

वहीं, नमूनों को रखने के लिए फ्रीजर की भी व्यवस्था है। इसके अलावा बुखार, ब्लड प्रेशर और पेट दर्द के मरीज भी इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। इनमें गंभीर मरीजों को भर्ती किया जा रहा है।
 

सिंघु बॉर्डर पर किसानों को मिनी अस्पताल में 24 घंटे इमरजेंसी सेवा दी जा रही है।। इसमें बेड की सुविधा के साथ-साथ ऑक्सीजन व ईसीजी आदि की सुविधा भी प्रदान की जा रही है। साथ ही बॉयोकेमिस्ट्री लैब भी बनाई गई है। वहीं, अब तक अस्पताल में 15 मरीजों को भर्ती किया जा चुका है।

बॉर्डर पर टेंट के माध्यम से मिनी अस्पताल बनाया गया है। इस अस्पताल में शुरुआती तौर पर चार बेड की व्यवस्था की गई है। इनमें से दो बेड को ऑक्सीजन के साथ जोड़ा गया है। वहीं, दो ईसीजी मशीनें भी लगाई गई हैं। इसमें से एक चलित ईसीजी मशीन है।

 

अस्पताल में कार्यरत डॉ. चंदन सिंह ने बताया कि अस्पताल में चार डॉक्टरों की टीम और चार नर्स स्टाफ तैनात हैं। प्रत्येक डॉक्टर व नर्स की शिफ्ट भी तय की गई है। उन्होंने बताया कि अब तक यहां करीब 15 मरीजों को भर्ती किया जा चुका है। 

हालांकि, इनमें से कई मरीज डिस्चार्ज भी हो चुके हैं। शनिवार को भी तीन से चार मरीजों को डिस्चार्ज किया गया है। डॉ. चंदन ने कहा कि आपात स्थिति के लिए एंबुलेंस की व्यवस्था भी की गई है। ऐसे में यदि किसी मरीज की तबीयत अधिक बिगड़ती है तो उसे एंबुलेंस के माध्यम से दूसरे अस्पताल में रेफर किया जाएगा।

आगामी दिनों में बढ़ाई जाएगी बेड की संख्या 

डॉ. चंदन सिंह ने बताया कि लगातार मरीज इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। इसे देखते हुए आगामी दिनों में दो अतिरिक्त बेड की व्यवस्था करने का निर्णय लिया गया है। अतिरिक्त बेड को भी ऑक्सीजन की सुविधा के अस्पताल के साथ जोड़ा जाएगा। इन बेड में भी ऑक्सीजन की व्यवस्था करने की कोशिश की जाएगी। 

एक दिन में की जा रही करीब 400 शुगर मरीजों की जांच

डॉक्टर सादिक मोहम्मद ने बताया कि मिनी अस्पताल में एक दिन में करीब 300 से 400 शुगर के मरीज शिकायत लेकर पहुंच रहे हैं। इनकी जांच के लिए एक छोटी लैब भी बनाई गई है। यहां खून के नमूनों की जांच की जाती है। 

वहीं, नमूनों को रखने के लिए फ्रीजर की भी व्यवस्था है। इसके अलावा बुखार, ब्लड प्रेशर और पेट दर्द के मरीज भी इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। इनमें गंभीर मरीजों को भर्ती किया जा रहा है।

 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed