March 4, 2021

दिल्लीः सीजन में सबसे ठंडा रहा साल का आखिरी दिन, कल से राहत की उम्मीद


सर्द मौसम में कनॉट प्लेस में करतब दिखाता एक युवा…
– फोटो : amar ujala

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

उत्तर भारत में शीत लहर का कहर जारी है। साल केआखिरी दिन बर्फीली हवाओं व कड़ाके की ठंड ने हाड कंपा दिए। साल का आखिरी दिन सीजन का सबसे अधिक ठंडा दिन रहा। जब न्यूनतम तापमान लुढ़कर 3.3 डिग्री पहुंच गया। लोदी रोड में तो न्यूनतम तापमान 3.1 डिग्री दर्ज किया गया। वहीं पन्द्रह साल में दूसरी बार दिसंबर सबसे अधिक ठंडा रहा। जब औसत न्यूनतम तापमान 7.1 डिग्री दर्ज हुआ। इससे पहले वर्ष 2018 में 6.7, 2005 में दिसंबर में औसत न्यूनतम तापमान 6.0 डिग्री रहा था। 

मौसम विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार इस साल दिसंबर का औसत न्यूनतम तापमान 7.1 डिग्री सेल्सियस रहा है। जबकि बीते साल औसत न्यूनतम तापमान 7.6 डिग्री सेल्सियस रहाथा। आईएमडी के अनुसार दिसंबर में औसत न्यूनतम तापमान 8.3 डिग्री सेल्सियस रहता है। बीते 15 साल में वर्ष 2018 में औसत तापमान सात डिग्री से नीचे गया था जब तापमान 6.7 डिग्री दर्ज हुआ था। वहीं वर्ष 2005 में औसत न्यूनतम तापमान 6 डिग्री था, वर्ष 1996 में औसत न्यूनतम तापमान 5.9 डिग्री और 1993 में 7.3 डिग्री दर्ज किया गया था। 

आईएमडी के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव के मुताबिक आसमान साफ रहने, हिमालय क्षेत्र से पश्चिमी विक्षोभ और ला नीना केप्रभाव के कारण न्यूनतम तापमान में गिरावट दर्ज हुई है। 12 दिसंबर तक न्यूनतम तापमान सामान्य ही दर्ज हो रहा था। उसकेबाद पश्चिमी विक्षोभ के कारण हिमालय क्षेत्र में हलचल हुई इससे जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में बर्फबारी व बारिश देखने को मिली। जम्मू कश्मीर और हिमाचल से हवा का रुख बदलने से दिल्ली-एनसीआर में न्यूनतम तापमान में गिरावट आने लगी।  वैश्विक कारण ला नीना प्रभाव ने तापमान में गिरावट में योगदान दिया। 

बृहस्पतिवार को अधिकतम तापमान व न्यूनतम तापमान दोनों में गिरावट दर्ज की गई। अधिकतम तापमान सामान्य से दो डिग्री कम 17.4 व न्यूनतम तापमान सामान्य से चार डिग्री कम 3.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। दो जनवरी से अधिकतम व न्यूनतम तापमान में बढ़ोतरी होनी शुरु होगी। एक जनवरी को अधिकतम तापमान 19 डिग्री व न्यूनतम तापमान 4 डिग्री रहने की संभावना है। 

इस साल आठ दिन शीतलहर चली
साल 2020 के दिसंबर में आठ दिन शीतलहर की स्थिति रही। इससे पहले 2018, 1961 में आठ दिन शीतलहर चली थी। जबकि सबसे अधिक शीतलहर 1965 में नौ दिन चली थी। मालूम हो कि न्यूनतम तापमान 10 डिग्री व उससे नीचे और सामान्य से चार-पांच डिग्री कम होने जाने पर शीतलहर घोषित की जाती है। 

पूर्वानुमान:
आसमान साफ रहेगा, सुबह केसमय घना कोहरा रहने और शीत लहर चलने का अनुमान। 
आज का तापमान
अधिकतम तापमान: 17.4 डिग्री सेल्सियस
न्यूनतम तापमान: 3.3 डिग्री सेल्सियस
एक जनवरी को सूर्यास्त: शाम 5:36 मिनट
दो जनवरी को सूर्योदय: सुबह 7:14 मिनट

उत्तर भारत में शीत लहर का कहर जारी है। साल केआखिरी दिन बर्फीली हवाओं व कड़ाके की ठंड ने हाड कंपा दिए। साल का आखिरी दिन सीजन का सबसे अधिक ठंडा दिन रहा। जब न्यूनतम तापमान लुढ़कर 3.3 डिग्री पहुंच गया। लोदी रोड में तो न्यूनतम तापमान 3.1 डिग्री दर्ज किया गया। वहीं पन्द्रह साल में दूसरी बार दिसंबर सबसे अधिक ठंडा रहा। जब औसत न्यूनतम तापमान 7.1 डिग्री दर्ज हुआ। इससे पहले वर्ष 2018 में 6.7, 2005 में दिसंबर में औसत न्यूनतम तापमान 6.0 डिग्री रहा था। 

मौसम विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार इस साल दिसंबर का औसत न्यूनतम तापमान 7.1 डिग्री सेल्सियस रहा है। जबकि बीते साल औसत न्यूनतम तापमान 7.6 डिग्री सेल्सियस रहाथा। आईएमडी के अनुसार दिसंबर में औसत न्यूनतम तापमान 8.3 डिग्री सेल्सियस रहता है। बीते 15 साल में वर्ष 2018 में औसत तापमान सात डिग्री से नीचे गया था जब तापमान 6.7 डिग्री दर्ज हुआ था। वहीं वर्ष 2005 में औसत न्यूनतम तापमान 6 डिग्री था, वर्ष 1996 में औसत न्यूनतम तापमान 5.9 डिग्री और 1993 में 7.3 डिग्री दर्ज किया गया था। 

आईएमडी के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव के मुताबिक आसमान साफ रहने, हिमालय क्षेत्र से पश्चिमी विक्षोभ और ला नीना केप्रभाव के कारण न्यूनतम तापमान में गिरावट दर्ज हुई है। 12 दिसंबर तक न्यूनतम तापमान सामान्य ही दर्ज हो रहा था। उसकेबाद पश्चिमी विक्षोभ के कारण हिमालय क्षेत्र में हलचल हुई इससे जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में बर्फबारी व बारिश देखने को मिली। जम्मू कश्मीर और हिमाचल से हवा का रुख बदलने से दिल्ली-एनसीआर में न्यूनतम तापमान में गिरावट आने लगी।  वैश्विक कारण ला नीना प्रभाव ने तापमान में गिरावट में योगदान दिया। 

बृहस्पतिवार को अधिकतम तापमान व न्यूनतम तापमान दोनों में गिरावट दर्ज की गई। अधिकतम तापमान सामान्य से दो डिग्री कम 17.4 व न्यूनतम तापमान सामान्य से चार डिग्री कम 3.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। दो जनवरी से अधिकतम व न्यूनतम तापमान में बढ़ोतरी होनी शुरु होगी। एक जनवरी को अधिकतम तापमान 19 डिग्री व न्यूनतम तापमान 4 डिग्री रहने की संभावना है। 

इस साल आठ दिन शीतलहर चली

साल 2020 के दिसंबर में आठ दिन शीतलहर की स्थिति रही। इससे पहले 2018, 1961 में आठ दिन शीतलहर चली थी। जबकि सबसे अधिक शीतलहर 1965 में नौ दिन चली थी। मालूम हो कि न्यूनतम तापमान 10 डिग्री व उससे नीचे और सामान्य से चार-पांच डिग्री कम होने जाने पर शीतलहर घोषित की जाती है। 

पूर्वानुमान:

आसमान साफ रहेगा, सुबह केसमय घना कोहरा रहने और शीत लहर चलने का अनुमान। 

आज का तापमान

अधिकतम तापमान: 17.4 डिग्री सेल्सियस

न्यूनतम तापमान: 3.3 डिग्री सेल्सियस

एक जनवरी को सूर्यास्त: शाम 5:36 मिनट

दो जनवरी को सूर्योदय: सुबह 7:14 मिनट



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *