February 25, 2021

दिल्लीः ज्वेलरी शोरूम में गार्ड को बंधक बनाकर करोड़ों की डकैती, 7-8 नकाबपोश बदमाशों ने दिया वारदात को अंजाम


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Thu, 14 Jan 2021 08:35 PM IST

पीतमपुरा इलाके में स्थित रिलायंस ज्वेलरी शोरूम
– फोटो : amar ujala

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

पीतमपुरा इलाके में स्थित रिलायंस ज्वेलरी शोरूम में गुरुवार तड़के गार्ड को बंधक बनाकर डकैती को अंजाम दिया गया। ग्रे रंग की कार सवार सात से आठ नकाबपोश बदमाशों ने शोरूम से करोड़ों के जेवरात लेकर फरार हो गए। घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने मौका मुआयना करने के बाद मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस शोरूम में लगे सीसीटीवी कैमरे और आस पास के कैमरों की फुटेज को कब्जे में कर बदमाशों की पहचान करने में जुटी है। 

तड़के करीब पौने चार बजे ज्वेलरी शोरूम के बाहर गार्ड उत्तम नगर निवासी विनय शुक्ला (31) ड्यूटी पर तैनात था। इसी दौरान एक ग्रे रंग की कार शोरूम के सामने आकर रूकी। उसमें से सात से आठ बदमाश नीचे उतरे। सभी बदमाशों के हाथों में पिस्टल और चाकू व अन्य हथियार थे। बदमाश गार्ड के कनपटी पर पिस्टल लगाकर उसे किनारे में बिठा दिया। उसके बाद दो बदमाशों ने शोरूम का शर्टर में लगे ताले को तोड़कर उसे उठा दिया। फिर सभी बदमाश गार्ड को जान से मारने की धमकी देकर अंदर ले गए। 

एक बदमाश गार्ड पर पिस्टल ताने हुए था जबकि अन्य दो बदमाश सफेद कट्टे में ज्वेलरी भरने लगे। इस दौरान बदमाशों ने गार्ड से मोबाइल फोन भी छीन लिया और कार में बैठकर वहां से फरार हो गए। गार्ड ने पुलिस को बताया कि घटना से वह इतना घबरा गया था कि वह बदमाशों की कार का नंबर भी नोट नहीं कर सका। 

शोरूम के मैनेजर ने घटना की जानकारी पुलिस को दी। घटना की जानकारी मिलते ही स्थानीय पुलिस के साथ क्राइम ब्रांच के अधिकारी भी मौके पर पहुंचकर छानबीन शुरू की। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि शोरूम के अधिकारी छानबीन करने के बाद इस बात की जानकारी देंगे कि बदमाश शोरूम से कितने रुपये के जेवरात ले गए हैं। लेकिन अंदाजा है कि बदमाश करोड़ों के जेवरात लेकर गए हैं। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि कई सेल्फों में जेवरात पड़े हुए थे। 

गार्ड और कर्मचारियों की भूमिका की जांच शुरू की
पुलिस गार्ड और शोरूम में काम करने वाले कर्मचारियों की भूमिका की जांच शुरू कर दी है। पुलिस ने यहां काम करने वाले सभी कर्मचारियों के बारे में जानकारी हासिल की है। यहां तक कि गार्ड के शोर नहीं मचाने और उसके साथ बदमाश के मारपीट नहीं किए जाने को लेकर उससे पूछताछ की है। गार्ड ने बताया कि बदमाशों ने उसके कनपटी पर पिस्टल लगा रखा था और शोर मचाने पर जान से मारने की धमकी दी। वह काफी डर गया था, जिसकी वजह से वह शोर नहीं मचा पाया। उसने बताया कि घटना के समय वह वहां अकेले था। बदमाश आते ही उसे बंधक बना लिया था। पुलिस शोरूम में काम करने वाले कर्मचारियों के फोन कॉल डिटेल्स की भी जांच कर रही है। 

अंधेरे और धुंध की वजह से सीसीटीवी की फुटेज स्पष्ट नहीं 
पुलिस ने शोरूम में लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज और बदमाशों के भागने की दिशा में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज को कब्जे में लिया है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि शोरूम में अंधेरा होने और बाहर धुंध होने की वजह से कैमरे में बदमाशों का चेहरा और गाड़ी स्पष्ट नहीं दिख रहा है। हालांकि पुलिस लगातार कोशिश में जुटी है कि सही फुटेज मिले, जिससे बदमाशों की पहचान की जा सके। 

पैरोल पर जेल से निकले बदमाशों पर शक 
वारदात के बाद से पुलिस बदमाशों की पहचान करने में जुट गई है। पुलिस की करीब आधा दर्जन टीमें तैयार की गई हैं। पुलिस अधिकारियों को शक है कि पैरोल पर जेल से निकले बदमाश वारदात को अंजाम दे सकते हैं। पुलिस ऐसे बदमाशों की पहचान कर रही है कि जो इससे पहले भी इस तरीके से वारदात को अंजाम दे चुके हैं। साथ ही पुलिस मेवाती गैंग के बदमाशों पर भी शक जाहिर कर रही है, जो देर रात व तड़के इस तरह से वारदात को अंजाम देते हैं। पुलिस गार्ड से पूछताछ कर बदमाशों के हुलिया और उनके बोलचाल के लहजे के बारे में भी जानकारी हासिल की है। 

पीतमपुरा इलाके में स्थित रिलायंस ज्वेलरी शोरूम में गुरुवार तड़के गार्ड को बंधक बनाकर डकैती को अंजाम दिया गया। ग्रे रंग की कार सवार सात से आठ नकाबपोश बदमाशों ने शोरूम से करोड़ों के जेवरात लेकर फरार हो गए। घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने मौका मुआयना करने के बाद मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस शोरूम में लगे सीसीटीवी कैमरे और आस पास के कैमरों की फुटेज को कब्जे में कर बदमाशों की पहचान करने में जुटी है। 

तड़के करीब पौने चार बजे ज्वेलरी शोरूम के बाहर गार्ड उत्तम नगर निवासी विनय शुक्ला (31) ड्यूटी पर तैनात था। इसी दौरान एक ग्रे रंग की कार शोरूम के सामने आकर रूकी। उसमें से सात से आठ बदमाश नीचे उतरे। सभी बदमाशों के हाथों में पिस्टल और चाकू व अन्य हथियार थे। बदमाश गार्ड के कनपटी पर पिस्टल लगाकर उसे किनारे में बिठा दिया। उसके बाद दो बदमाशों ने शोरूम का शर्टर में लगे ताले को तोड़कर उसे उठा दिया। फिर सभी बदमाश गार्ड को जान से मारने की धमकी देकर अंदर ले गए। 

एक बदमाश गार्ड पर पिस्टल ताने हुए था जबकि अन्य दो बदमाश सफेद कट्टे में ज्वेलरी भरने लगे। इस दौरान बदमाशों ने गार्ड से मोबाइल फोन भी छीन लिया और कार में बैठकर वहां से फरार हो गए। गार्ड ने पुलिस को बताया कि घटना से वह इतना घबरा गया था कि वह बदमाशों की कार का नंबर भी नोट नहीं कर सका। 

शोरूम के मैनेजर ने घटना की जानकारी पुलिस को दी। घटना की जानकारी मिलते ही स्थानीय पुलिस के साथ क्राइम ब्रांच के अधिकारी भी मौके पर पहुंचकर छानबीन शुरू की। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि शोरूम के अधिकारी छानबीन करने के बाद इस बात की जानकारी देंगे कि बदमाश शोरूम से कितने रुपये के जेवरात ले गए हैं। लेकिन अंदाजा है कि बदमाश करोड़ों के जेवरात लेकर गए हैं। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि कई सेल्फों में जेवरात पड़े हुए थे। 

गार्ड और कर्मचारियों की भूमिका की जांच शुरू की

पुलिस गार्ड और शोरूम में काम करने वाले कर्मचारियों की भूमिका की जांच शुरू कर दी है। पुलिस ने यहां काम करने वाले सभी कर्मचारियों के बारे में जानकारी हासिल की है। यहां तक कि गार्ड के शोर नहीं मचाने और उसके साथ बदमाश के मारपीट नहीं किए जाने को लेकर उससे पूछताछ की है। गार्ड ने बताया कि बदमाशों ने उसके कनपटी पर पिस्टल लगा रखा था और शोर मचाने पर जान से मारने की धमकी दी। वह काफी डर गया था, जिसकी वजह से वह शोर नहीं मचा पाया। उसने बताया कि घटना के समय वह वहां अकेले था। बदमाश आते ही उसे बंधक बना लिया था। पुलिस शोरूम में काम करने वाले कर्मचारियों के फोन कॉल डिटेल्स की भी जांच कर रही है। 

अंधेरे और धुंध की वजह से सीसीटीवी की फुटेज स्पष्ट नहीं 

पुलिस ने शोरूम में लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज और बदमाशों के भागने की दिशा में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज को कब्जे में लिया है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि शोरूम में अंधेरा होने और बाहर धुंध होने की वजह से कैमरे में बदमाशों का चेहरा और गाड़ी स्पष्ट नहीं दिख रहा है। हालांकि पुलिस लगातार कोशिश में जुटी है कि सही फुटेज मिले, जिससे बदमाशों की पहचान की जा सके। 

पैरोल पर जेल से निकले बदमाशों पर शक 

वारदात के बाद से पुलिस बदमाशों की पहचान करने में जुट गई है। पुलिस की करीब आधा दर्जन टीमें तैयार की गई हैं। पुलिस अधिकारियों को शक है कि पैरोल पर जेल से निकले बदमाश वारदात को अंजाम दे सकते हैं। पुलिस ऐसे बदमाशों की पहचान कर रही है कि जो इससे पहले भी इस तरीके से वारदात को अंजाम दे चुके हैं। साथ ही पुलिस मेवाती गैंग के बदमाशों पर भी शक जाहिर कर रही है, जो देर रात व तड़के इस तरह से वारदात को अंजाम देते हैं। पुलिस गार्ड से पूछताछ कर बदमाशों के हुलिया और उनके बोलचाल के लहजे के बारे में भी जानकारी हासिल की है। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed