February 26, 2021

बिहार: नीतीश कुमार ने भरे मंच पर छोड़ी वीआईपी कुर्सी, फिर उठाया यह कदम


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पटना
Updated Wed, 06 Jan 2021 05:37 PM IST

नीतीश कुमार, मुख्यमंत्री, बिहार
– फोटो : ANI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

बिहार की राजधानी पटना में एक सरकारी कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ऐसा कदम उठाया, जिससे हर कोई हैरान रह गया। दरअसल, नीतीश कुमार ने भरे मंच पर वीआईपी कुर्सी छोड़ दी। इसके बाद उन्होंने कार्यक्रम में मौजूद सबसे छोटी कुर्सी मंगवाई और उस पर बैठ गए। इस पूरे घटनाक्रम के दौरान दोनों डिप्टी सीएम भी मौजूद थे। उनके अलावा मंच पर मौजूद अन्य नेता भी नीतीश कुमार की यह सादगी देखकर चौंक गए। 

यह है पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक, पटना में 5 जनवरी बुधवार को जल जीवन हरियाली कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री तार किशोर प्रसाद व रेणु देवी, ग्रामीण विकास मंत्री विजय चौधरी सहित सभी विभागों के प्रधान सचिव मौजूद थे। इस बीच सीएम नीतीश कुमार अचानक अपनी कुर्सी छोड़कर खड़े हो गए। यह देखकर कार्यक्रम में मौजूद हर शख्स हैरान रह गया।

सीएम ने उठाया यह कदम

बताया जा रहा है कि इस दौरान नीतीश कुमार ने अपनी कुर्सी बदलने के लिए कहा और सबसे छोटी कुर्सी मंगवाई। इसके बाद उन्होंने छोटी कुर्सी पर बैठकर कार्यक्रम का उद्घाटन किया। 

इस वजह से बदली कुर्सी

लोगों का कहना है कि इस कार्यक्रम के लिए मंच पर कई कुर्सियां लगाई गई थीं। इनमें सबसे बड़ी और ऊंची मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की थी। जब नीतीश कुमार इस कुर्सी पर बैठे तो वह खुद को असहज महसूस करने लगे। ऐसे में वह तत्काल कुर्सी से उठकर खड़े हो गए। 

सीएम की सादगी की हो रही तारीफ

इस घटना के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सादगी की काफी तारीफ हो रही है। लोगों का कहना है कि सीएम ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि उनके लिए कुर्सी कोई मायने नहीं रखती। गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव 2020 के नतीजे आने के बाद भी नीतीश कुमार ने साफ शब्दों में कहा था कि वह कभी मुख्यमंत्री की कुर्सी पर नहीं बैठना चाहते थे। उन्होंने कहा था कि मुझे कुर्सी से प्यार नहीं है। मैं काम करना चाहता हूं।

 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed