March 3, 2021

इंडिगो मैनेजर रूपेश सिंह के परिवार से मिले तेजस्वी, कानून-व्यवस्था पर उठाए सवाल


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पटना
Updated Sun, 17 Jan 2021 04:55 PM IST

तेजस्वी यादव रूपेश सिंह के परिवार से मिलते हुए
– फोटो : ANI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने रविवार को इंडिगो के मैनेजर रूपेश सिंह के परिवार से उनके छपरा आवास पर मुलाकात कर उन्हें सांत्वना दी। बता दें कि 12 जनवरी को कुछ अज्ञात अपराधियों ने रूपेश सिंह की हत्या कर दी थी। तेजस्वी यादव ने इस घटना पर कहा कि नीतीश जी द्वारा अपराधों को छिपाने की चेष्टा एवं उसे स्वीकार नहीं करना ही सबसे बड़ा अपराध और अपराधियों के लिए रामबाण है। उनसे बिहार नहीं संभल रहा, वो अविलंब इस्तीफ़ा दें।

इससे पहले तेजस्वी ने फेसबुक लाइव पर भी सीएम नीतीश पर हमला बोला था। उन्होंने कहा कि ऐसी अफवाहें हैं कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मंत्री इंडिगो एयरलाइंस के प्रबंधक रूपेश कुमार सिंह की हत्या में शामिल हो सकते हैं।’ इससे पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बताया कि हत्या की जांच के लिए एक विशेष टीम बनाई गई है और आश्वासन दिया है कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। 

अज्ञात अपराधियों ने की रूपेश सिंह की हत्या
बिहार में 12 जनवरी को अज्ञात अपराधियों ने राजधानी पटना में मंगलवार की शाम इंडिगो एयरलाइंस के स्टेशन मैनेजर रूपेश कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी थी। जानकारी के अनुसार बाइक पर सवार अज्ञात अपराधियों ने पुनाईचक में रूपेश कुमार पर ताबड़तोड़ छह राउंड फायरिंग की और फिर फरार हो गए। घायल अवस्था में रूपेश कुमार को नजदीकी निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उनकी मौत हो गई।

अब तक इस निष्कर्ष पर पहुंची पुलिस
घटना की जांच में यह बात सामने आई कि अपराधियों ने रूपेश के शरीर में 6 से अधिक गोलियां दागी थीं। पोस्टमार्टम के दौरान उनके हाथ व सीने पर जख्म के कई निशान भी मिले हैं। यह जानकारी भी मिली है कि मुंगेर में बनी पिस्टल और 7.65 एमएम की गोलियों से इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया। वहीं, सूत्रों ने इस बात का दावा किया है कि गोली चलाने वाले ने पहले दूर से ही रूपेश पर गोली चलाई, जिससे कार का शीशा टूट गया। फिर उनके सीने में पिस्टल सटाकर गोलियां मारी गईं। हालांकि, इस दावे पर भी पुलिस कुछ कहने से बच रही है। 

सूत्रों ने यह भी बताया कि घटनास्थल से पुलिस को 7 खाली कारतूस मिले हैं। इनमें से दो खोखा कार के नीचे पड़ा हुआ था और बाकी कार के अंदर से बरामद किए गए हैं। मामले में पटना पुलिस ने सिर्फ यह बताया है कि घटनास्थल के आसपास के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज व अन्य चीजों को खंगाला जा रहा है। पुलिस हत्या के कई बिंदुओं पर जांच कर रही है और अगले एक-दो दिन में इस मामले में नतीजे तक पहुंच सकती है।

राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने रविवार को इंडिगो के मैनेजर रूपेश सिंह के परिवार से उनके छपरा आवास पर मुलाकात कर उन्हें सांत्वना दी। बता दें कि 12 जनवरी को कुछ अज्ञात अपराधियों ने रूपेश सिंह की हत्या कर दी थी। तेजस्वी यादव ने इस घटना पर कहा कि नीतीश जी द्वारा अपराधों को छिपाने की चेष्टा एवं उसे स्वीकार नहीं करना ही सबसे बड़ा अपराध और अपराधियों के लिए रामबाण है। उनसे बिहार नहीं संभल रहा, वो अविलंब इस्तीफ़ा दें।

इससे पहले तेजस्वी ने फेसबुक लाइव पर भी सीएम नीतीश पर हमला बोला था। उन्होंने कहा कि ऐसी अफवाहें हैं कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मंत्री इंडिगो एयरलाइंस के प्रबंधक रूपेश कुमार सिंह की हत्या में शामिल हो सकते हैं।’ इससे पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बताया कि हत्या की जांच के लिए एक विशेष टीम बनाई गई है और आश्वासन दिया है कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। 

अज्ञात अपराधियों ने की रूपेश सिंह की हत्या

बिहार में 12 जनवरी को अज्ञात अपराधियों ने राजधानी पटना में मंगलवार की शाम इंडिगो एयरलाइंस के स्टेशन मैनेजर रूपेश कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी थी। जानकारी के अनुसार बाइक पर सवार अज्ञात अपराधियों ने पुनाईचक में रूपेश कुमार पर ताबड़तोड़ छह राउंड फायरिंग की और फिर फरार हो गए। घायल अवस्था में रूपेश कुमार को नजदीकी निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उनकी मौत हो गई।

अब तक इस निष्कर्ष पर पहुंची पुलिस

घटना की जांच में यह बात सामने आई कि अपराधियों ने रूपेश के शरीर में 6 से अधिक गोलियां दागी थीं। पोस्टमार्टम के दौरान उनके हाथ व सीने पर जख्म के कई निशान भी मिले हैं। यह जानकारी भी मिली है कि मुंगेर में बनी पिस्टल और 7.65 एमएम की गोलियों से इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया। वहीं, सूत्रों ने इस बात का दावा किया है कि गोली चलाने वाले ने पहले दूर से ही रूपेश पर गोली चलाई, जिससे कार का शीशा टूट गया। फिर उनके सीने में पिस्टल सटाकर गोलियां मारी गईं। हालांकि, इस दावे पर भी पुलिस कुछ कहने से बच रही है। 

सूत्रों ने यह भी बताया कि घटनास्थल से पुलिस को 7 खाली कारतूस मिले हैं। इनमें से दो खोखा कार के नीचे पड़ा हुआ था और बाकी कार के अंदर से बरामद किए गए हैं। मामले में पटना पुलिस ने सिर्फ यह बताया है कि घटनास्थल के आसपास के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज व अन्य चीजों को खंगाला जा रहा है। पुलिस हत्या के कई बिंदुओं पर जांच कर रही है और अगले एक-दो दिन में इस मामले में नतीजे तक पहुंच सकती है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *